सोमवार, 18 अप्रैल 2011

अन्ना का अनशन ब्लाक्क्मैलिंग है तो गाँधी सबसे बड़े ब्लैक मेलर थे

अंग्रेजों के खिलाफ जब आन्दोलन चला तो गाँधी और उनके सहयोगी जनसाधारण द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि नहीं थे...जनता ने उन्हें अपना लीडर बिना किसी वोट और प्रक्रिया के चुना था. क्यूंकि उनकी आवाज़ आम जनता कि आवाज़ थी. अन्ना की आवाज़ भी जनता की आवाज़ है और लोकतंत्र में इस से बड़ा सविंधान कोई नहीं होता. उस संविधान और नियम क़ानून का क्या फ़ायदा जो जनता की आवाज़ नहीं सुनता.
सत्याग्रह एक कारगर हथियार है , जिसका लोहा सारी दुनिया मानती है ..इसका दुरूपयोग हो सकता है, किन्तु अन्ना ने इसका उपयोग किया है... गलत आदमी का साथ जनता नहीं देती.. अन्ना को गलत कहना.. उन्हें ब्लैक मेलर कहना ..लोकतंत्र का अपमान है..उसकी जनता का अपमान है..इस देश के चौथे स्तम्भ मीडिया का अपमान है.. जिन सबने मिलकर अन्ना का साथ दिया. जिन लोगो ने इन् तमाम नेताओं को चुना है, वो भी अन्ना की मुहीम में शामिल है. हिम्मत है तो अपने छेत्र में जाकर लोगों से बात करे..जूत्ते नहीं पड़े तो नाम बदल देना.
१५ अगस्त १९४७ को हमे आजादी मिली थी. आज देश में भ्रस्टाचार, बेईमानी , लूट-पाट , वो भी नेतायों द्वारा देख कर ऐसा लगता है , जैसे उस दिन हमे आज़ादी नहीं मिली थी. गोरो ने कालो के हाथ में सत्ता का हस्तांतरण कर दिया था. हमारे नेतायों को अधिकार दे दिया था, कि २०० साल हमने लूटा , अब तुम सब अनन्त काल तक लूटो. तब गैर लूट रहे थे , आज कहने को अपने लूट रहे हैं. जनता , लोकतंत्र की जनता, संविधान, क़ानून कि दुहाई दे दे कब तक चुप करायी जाती रही ..? लेकिन आखिर कब तक ? एक न एक दिन तो ये होना था. अच्छा हुआ जल्दी हो गया , वो भी अन्ना जैसे गाँधी वादी के हाथ , कहीं यही भगत सिंह , आज़ाद जैसे गरम मिजाज़ वाले जवान के हाथ होता तो इसका अंजाम आप सब सोच सकते हैं. तब ऐसे जवानो को देशद्रोही , गुंडा कहते ये काले नेता... जैसे अंग्रेजों ने क्रांतिकारियों को कहा.

जनता ने अपना मत अन्ना के प्रति ज़ाहिर कर दिया है, क्यूंकि उनका नेतायों पर से विश्वास उठ गया है. कुछ ईमानदार नेतायों के लिए ये चिंता का विषय हो सकता है, लेकिन पब्लिक सब जानती है. उन्हें चिंता करने की ज़रूरत नहीं है. उन्हें ये सोचना होगा की ऐसी पहल वो खुद करें.. तो जनता उन्हें सर आँखों पर बैठा लेगी. अन्ना के खिलाफ बोलना उनके लिए महंगा साबित हो सकता है.



A drop of ink, makes million think
www.anandrathore.com

4 टिप्‍पणियां:

  1. अपनी चोरी पर पर्दा डालने के लिए घटिया मानसिकता वाले ही लोग श्री अन्ना हजारे और हर उस ईमानदार को ब्लैकमेलर कहते हैं. जो भी उनके लिए सरदर्द होता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीजिए हमारा साथ एक ऐसी मुहिम मेँ जहाँ हम देँगे मुँहतोड जवाब उन पापियोँ को जो तुले हैँ हमारी भारत माता को बदनाम करने मेँ
    http://bloggers-adda.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीजिए हमारा साथ एक ऐसी मुहिम मेँ जहाँ हम देँगे मुँहतोड जवाब उन पापियोँ को जो तुले हैँ हमारी भारत माता को बदनाम करने मेँ
    http://bloggers-adda.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. anna ko blackmelar kahana sarkari tantra ki buri niyat ko pradarshi karata hai.anna ki awaj aam janta ki awaj hi .

    उत्तर देंहटाएं