रविवार, 26 सितंबर 2010

ठहरा हुआ हो आँखों में सागर तो कभी देखना।
किश्तियाँ डूबी हैं कितनी , लहरों के तूफ़ान में ।

जब कोई मरता है ख्वाब , तो लगता है यूँ ।
जल रही है ज़िन्दगी, जैसे शमशान में ।

घर बनाना भूल गए लोग अब जहाँ में।
रहने लगे है बस अब माकन में।

4 टिप्‍पणियां:

  1. पंक्तियाँ सुन्दर हैं , कुछ जलने की बू भी आ रही है ,
    थोड़ा और बढ़ाओ , लिखते लिखते उम्र के साथ साथ आप और अच्छा लिखने लग जाओगे ।
    रहने लगे है बस अब माकन में।
    की जगह अगर ' रहने लगे हैं बस, दीवारों से घिरे मकान में ' लिखें तो ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया.. आप के सुझाव के लिए आभारी हूँ. कोशिश करूँगा कि और अच्चा लिखूं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत लिखा है ..दो शेर और जोडते तो मुक्कमल गज़ल हो जाती

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुक्रिया.. अगली बार कोशिश करूँगा.. दरसल बात ये है.. मैं जब भी लिखता हूँ, ये सोच कर नही कि ग़ज़ल या कविता लिख रहा हूँ.. राह चलते..जागते- सोते ..कभी भी कहीं भी , जैसा एहसास होता है..तजुर्बा होता है लिख देता हूँ.. इसलिए शायद ऐसा होता है...

    उत्तर देंहटाएं