सोमवार, 23 अगस्त 2010

हम तो कोरे कागज़ थे , लोग क्या क्या पढ़ गए।
जिसके जी में जैसा आया , वैसी कहानी गढ़ गए।

5 टिप्‍पणियां: