शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

फूल नहीं हूँ खुशबू हूँ मैं।
आँधियों से कह दो औकात में रहें।

6 टिप्‍पणियां:

  1. गज़ब का हौंसला और एकदम सही - आंधियों की क्या मजाल जो खुशबू को बांध सकें।
    आनंद जी, बहुत अच्छी लगी ये पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. good one.. but Rahat Indori sahab ki gazhal se copy kiya hua lagta hai sir....

    उत्तर देंहटाएं
  3. vishwa ji blog par aane ke liye shukriya... main film se juda hoon.. rahat sahab ke baare mein suna tha ..lekin kabhi padha nahi...agar aap koi is se milti julti rachna batayen to bahut achcha hoga.. mujhe lagega..main bhi humjaato mein se ek hoon..khushi hogi..

    उत्तर देंहटाएं