शनिवार, 30 अक्तूबर 2010

सब देख रहा हूँ

जो जैसा कर रहा है सब देख रहा हूँ।
किसकी नज़र में क्या है सब देख रहा हूँ।

वो हंस के बोलते हैं, ज़हर भी घोलते हैं।
उनके इरादे क्या हैं सब देख रहा हूँ।

पलकों पे कहीं ख्वाब सजते देख रहा हूँ।
आँखों में उमड़ते आंसू सब देख रहा हूँ।

बहती नदी की धार ,कहीं देख रहा हूँ ।
संजीदगी समंदर की सब देख रहा हूँ।

तेरी नज़र में क्या है , उसकी नज़र में क्या है।
मेरी नज़र में क्या , सब देख रहा हूँ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. आनंद जी,
    ये पढ़कर अपना फ़ेवरिट गाना याद आ गया, फ़िल्म ’बेमिसाल’से -
    किसी बात पर मैं...
    मैं जब भी जिधर भी जिसे देखता हूँ,
    वो ये सोचता है उसे देखता हूँ,
    मगर मैं कहां कब किसे देखता हूँ

    खूबसूरत प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. shuprbhaat...bahut badhiyan sir..shukriya.. ab main sone jaa raha hoon..kaun jeeta hai subah hone tak... haha..jagta hoon to aapke blog ki khabar leta hoon..

    उत्तर देंहटाएं
  3. पलकों पे कहीं ख्वाब.....बहुत प्यार शेर कहा जनाब
    आपके ब्लॉग पर पहली बार आना हुआ मगर अब तो लगातार आना पड़ेगा, अच्छी रचनाएँ जो पढनी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने ब्लॉग पर क्या-क्या लिखा है, हम भी देख रहे है.
    समझ रहे है, अबसे पहले क्यूँ नहीं आये, ये खुद से कह रहे है.

    :-) वैसे रचना अच्छी लगी खासकर कि ये पंक्तियाँ----- बहती नदी की धार, कहीं देख रहा हूँ..... संजीदगी समंदर की सब देख रहा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. singh shab darwaza hamesha khula hai..aapka swagat hai... sunil ji... mubarak ki jagah pls daad dijiye...vandana ji...hum hamesha yahin the..is gol gol duniya mein gol gol ghoom rahe the...ek din blog pe aa gire..afsos ka waqt nahi hai..jashan manaiye...my dad says..u r anand...jeevan mein sabko iski talaash hai..apne naam ko sarthak zarur karna... ur comment is compliment ..my dad will be happy man...thanx..

    उत्तर देंहटाएं
  6. आनंद जी,
    बहुत ही सुंदर ....... आप तो सब जानते है. फिर हमें पहले क्यों नहीं बुलाये अपने ब्लॉग पर.कुछ हम भी सीख लिए होते आप से.

    उत्तर देंहटाएं
  7. upendra ji..main jeevan ki aapadhaapki ke sang sang aatm jagriti ki yatra par hoon..na kisi ko bulata hoon..na kisi ko kuch sikhata hoon...ye blog iss jagne ke kram mein tootne ki awaz hai..aur adhukhuli aankho se jo dekh raha hoon..wo likh raha hoon..jis din poora jaag gaya...tirohit ho jaunga...na main rahunga na mera sansaar.. ab mil gaye hain..to aap jo chahe saluk kijiye.. aapka swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब
    -------------


    मेरा पोर्ट्रेट ......My portrait

    उत्तर देंहटाएं
  9. दीपावली के इस पावन पर्व पर आप सभी को सहृदय ढेर सारी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut khoobsurat gazal ...



    ज्योति पर्व के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति.शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं